Home I Bookmark this site
Read Jyotish Manthan
RSS Feed Rss Feed
Contact Us Contact Us
About I.C.A.S. About I.C.A.S.
Want to open
ICAS regular chapter
in your city
News & Events
your updation with ICAS
Services
by ICAS Experts
Membership
get website membership Free

get Icas membership Paid
   
Article Of the Week
 
30 वर्ष के बाद पुन: शनि जा रहे हैं गुरु के पास।
पं. श्रीराम शर्मा
ज्योतिष में शनि की चाल को मंद कहा गया है। एक राशि में ये ढाई वर्ष निवास करते हैं। यही कारण है कि बारह राशियों का एक सम्पूर्ण चक्र 30 वर्षों में पार करते हैं। सौर मंण्डल में स्थित ग्रह इस क्रम में हैं - सूर्य-बुध-चंद्रमा-मंगल-गुरु-शनि। इसका मतलब है कि शनि ने अपने घर की ओर मुख कर लिया है। लगभग आज से ढाई वर्ष बाद शनि अपने घर में पहुंच जाएंगे। कोई भी व्यक्ति जब लम्बे अर्से के बाद अपने घर जाता है तो काफी प्रसन्न रहता है। ऐसी स्थिति में उसके मस्तिष्क में केवल एक ही विचार रहता है, जल्द से जल्द घर पहुंचने का। इस समय शनि की इच्छा भी यही है। शनि साढ़ेसाती के रूप में लम्बे समय से तुला राशि को प्रभावित कर रहे थे, जिसे वे मुक्त कर देंगे और धनु को अपनी गिरफ्त में कर लेंगे। इसका मतलब शनि वृश्चिक, धनु व मकर राशि को साढ़ेसाती तथा वृषभ व मीन राशि को ढैय्या रहेगी। उपरोक्त वर्ष 2017 के उत्तराद्र्ध में तुला, वृश्चिक, धनु, मेष व कुंभ राशि वाले व्यक्तियों को सावधान रहना चाहिये। जब वे पुन: धनु से वृश्चिक राशि में प्रवेश करेंगे, यही वह समय होगा जब बुजुर्ग व्यक्तियों की मृत्यु दर बढ़ेगी। देश व शहर ही नहीं सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड इनके द्वारा प्रभावित होगा। अनिष्ट फल के निवारण हेतु शनि के मंत्रों का जाप व दान करना चाहिये।
 
   
Design & Developed by
pixelmultitoons